प्रचलित नोटों की फोटो काॅपी करके लोगों को देने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार
Date : Wednesday, July 25, 2018 View PDF

कार्यालय पुलिस अधीक्षक, जिला बांसवाड़ा (राज.) -ः प्रेस नोट:- दिनांक - 25.07.2018 प्रचलित नोटों की फोटो काॅपी करके लोगों को देने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार:- दनांक 23.07.2018 को देर रात्रि गोपनीय सूचना मिली कि घाटोल निवासी (1) अक्षय पिता प्रकाष, उम्र 34 वषर्, जाति जैन, निवासी पोस्ट आॅफीस चैराहा घाटोल, जिला बांसवाड़ा (2) हेमन्त उर्फ बबलु पिता प्रेम कुमार, उम्र 32 वर्ष, जाति जैन, निवासी हिराबाग काॅलोनी बांसवाडा, जिला बांसावाड़ा द्वारा लेपटाॅप व प्रिन्टर से प्रचलित मुद्रा/नोटो की स्केनर से फोटो काॅपी करके नकली नोट बनाते हेै। इस पर श्री वीराराम चैधरी, वृत अधिकारी बांसवाड़ा के नेतृत्व में श्री दिलीपदान, थाना अधिकारी खमेरा, श्री शैतानसिंह, थाना अधिकारी कोतवाली, श्री चैलसिंह, थाना अधिकारी लोहारिया ने आरोपियों के संदिग्ध स्थान पर विधिवत तलाषी ली। तलाषी में आरोपी अक्षय पिता प्रकाष जाति जैन निवासी पोस्ट आॅफीस चैराहा घाटोल के वहां से एक लेपटाॅप व ब्वसवनत च्तपदजमत ूपजी ेबंददमत बरामद हुआ। साईबर सैल से लेपटाॅप का प्रारम्भिक परीक्षण कराया तो लेपटाॅप में प्रचलित मुद्रा के नोट 10, 50, 100 व 200 के नोटों को स्केन कर प्रिन्ट निकलना पाया गया । प्रिन्टर व लेपटाॅप को पुलिस ने जब्त किया, जिसका विस्तृत परीक्षण विधि विज्ञान प्रयोग शाला जयपुर से कराया जावेगा। उपरोक्त पर प्रकरण संख्या 164/2018 धारा 489क, 489ग, 489घ भादस थाना खमेरा में दर्ज कर आरोपी (1) अक्षय पिता प्रकाष, उम्र 34 वषर्, जाति जैन, निवासी पोस्ट आॅफीस चैराहा घाटोल, जिला बांसवाड़ा (2) हेमन्त उर्फ बबलु पिता प्रेम कुमार, उम्र 32 वर्ष, निवासी हिराबाग काॅलोनी बांसवाडा, जिला बांसावाड़ा को गिरफ्तार किया गया । उक्त आरोपीगण वर्तमान में प्रचलित मुद्रा 10, 50, 100 व 200 के नोट को स्केन कर अच्छी क्वालिटी के पेपर पर उसका प्रिन्ट निकाल कर छोटे व्यापारियों यथा चायवालों, किरानावाला से कम मूल्य की वस्तुएंे खरीदने में काम में लेते थे । उधार लेन-देन व अन्य तरीके से भी नोटो के पेकेट मंे कुछ नोट स्केन किये हुए मिला कर देते थे । कुछ लोगो को असली 400/- रूपयों के बदले में 1000/- रूपये के नकली मुद्रा देते थे । पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि गत मार्च माह से वे इस तरह का अवैध काम कर रहे थे। सावधानियां:- आमजनता व व्यापारी से निम्न सावधानियां बरते हेतु पुलिस द्वारा आग्रह किया जाता है:- 1- नोट पर महात्मा गांधी की तस्वीर और इलेक्ट्रोटाईप वाटरमार्क है। 2- दृष्टिहीनों के लिए महात्मा गांधी की तस्वीर, अषोक स्तम्भ के प्रतीक, ब्लीड लाईन और पहचान चिन्ह खुरदरे से होते है । 3- पेपर की क्वालिटी में अन्तर होता है। 4- दाहिनी और बाईं तरफ ब्लीड लाइंस हैं जो खुरदरे हैं । 5- नकली नोट एक ही नम्बर से निकले हुये होते है। 3- खाली जगह पर गांधीजी की तस्वीर के पास 100 लिखा होता जिसे लाईट के विपरीत देखने पर साफ देखा जा सकता है। 4- बैंक नोट की सीरीज पर लिखा अंग्रेजी का एक शब्द अल्ट्रावॉयलेट लाईट में देखा जा सकता है। 5- हरे और नीले रंग की होती है पट्टी नोट पर बनी पट्टी जिसपर त्ठप् भारत लिखा होता है जिसे टेढ़ा करने देखने पर हरे और नीले रंग का दिखता है। नकली प्रचलित भारतीय मुद्रा के बारे में कोई भी जानकारी मिलने पर निकटतम पुलिस थाने/पुलिस नियन्त्रण कक्ष पर सूचना देवें (कालूराम रावत) जिला पुलिस अधीक्षक बंासवाडा।